Saturday, 13 November 2021

हिमाचल के सिरमौर ज़िला में अन्तरराष्ट्रीय रेणुका जी मेला शुरू

 13th November 2021 at 9:33 PM

 मुख्यमंत्री ने मेले की प्रथम सांस्कृतिक संध्या की अध्यक्षता की 


शिमला
:13 नवम्बर 2021: (देवभूमि स्क्रीन//आराधना टाईम्ज़)::
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज सिरमौर जिला के रेणुका स्थित रेणु मंच में सात दिवसीय अंतरराष्ट्रीय रेणुका जी मेले की प्रथम सांस्कृतिक संध्या की अध्यक्षता की।

मुख्यमंत्री ने मेला समिति द्वारा अंतरराष्ट्रीय श्री रेणुका जी मेले के शुभ अवसर पर प्रकाशित की गई स्मारिका का विमोचन भी किया।

मुख्यमंत्री ने लोगों को संबोधित करते हुए ददाहू में खण्ड विकास कार्यालय, धरतीधार और बचर बाग में आईटीआई (सेमधार) और धरतीधार में पशु औषधालय खोलने की घोषणा की। उन्होंने संगड़ाह में विद्युत बोर्ड का मण्डल कार्यालय खोलने और राजकीय उच्च पाठशाला बागथान को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने, राजकीय माध्यमिक पाठशाला सत्तार बढ़ो को राजकीय उच्च पाठशाला में स्तरोन्नत करने और क्षेत्र की दो राजकीय प्राथमिक पाठशालाओं को राजकीय माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने की घोषणा की।

जय राम ठाकुर ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय रेणुका मेला प्रदेश के महत्वपूर्ण मेलों में से एक है, जिसमें भगवान परशुराम और माता रेणुका के मिलन को दर्शाया गया है। उन्होंने कहा कि यह मेला न केवल धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है बल्कि राज्य को समृद्ध संस्कृति का भी प्रतीक है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश इस वर्ष को राज्य की स्वर्ण जयंती वर्ष के रूप में मना रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य ने विकास के क्षेत्र में  अनेक उपलब्धियां हासिल की हैं। हिमाचल प्रदेश आज न केवल पहाड़ी राज्यों, बल्कि देश के बड़े राज्यों के लिए भी एक आदर्श राज्य के रूप में उभरा है। उन्होंने राज्य के पहले मुख्यमंत्री डाॅ. वाई.एस. परमार के योगदान को भी याद किया। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण पिछले दो वर्ष प्रभावित हुए हंै, लेकिन राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि विकास की गति निर्बाध रूप से चलती रहे। उन्होंने कहा कि देश भाग्यशाली है कि इस कठिन समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में एक सशक्त नेतृत्व देश को मिला है। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा समय पर लिए गए निर्णयों और उठाए गए कदमों के कारण ही भारत शेष दुनिया के लिए प्रभावी कोविड प्रबंधन के लिए एक माॅडल के रूप में सामने आया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने कोविड महामारी के दौरान यह सुनिश्चित किया है कि कोविड मरीजों के लिए आॅक्सीजन, वेंटिलेटर, बिस्तरों आदि की कोई कमी न हो। उन्होंने कहा कि राज्य में जब यह महामारी फैली थी, तो उस समय राज्य में केवल 50 वेंटिलेटर थे। राज्य सरकार ने केन्द्र और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मामले को उठाया और केन्द्र सरकार द्वारा पीएमकेयर के तहत 500 वेंटिलेटर राज्य को शीघ्र प्रदान किए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे करीब अढ़ाई लाख हिमाचलियों को विशेष बसों और ट्रेनों के माध्यम से घर वापस पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि दो वर्ष पूर्व राज्य में केवल दो ही आॅक्सीजन प्लांट थे, लेकिन आज राज्य में 30 पीएसए ऑक्सीज़न प्लांट हैं।

जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार का एकमात्र उद्देश्य प्रदेश का समग्र व संतुलित विकास सुनिश्चित करना है। 

उपायुक्त सिरमौर एवं अध्यक्ष मेला समिति आर.के. गौतम ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह तथा डांगरा प्रस्तुत कर सम्मानित किया। उन्होंने सात दिवसीय मेले में आयोजित होने वाली विभिन्न गतिविधियों की विस्तृत जानकारी भी दी।

राज्य रेडक्राॅस सोसायटी की उपाध्यक्षा एवं मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी डाॅ. साधना ठाकुर, ऊर्जा मंत्री सुखराम चैधरी, सांसद एवं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप, नाहन के विधायक डाॅ. राजीव बिन्दल, रेणुका के विधायक विनय कुमार, पच्छाद की विधायक रीना कश्यप, राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बदलेव तोमर, राज्य कृषि विपणन बोर्ड के अध्यक्ष बलदेव भंडारी, सिरमौर जिला परिषद की अध्यक्षा सीमा, क्षेत्र के वरिष्ठ भाजपा नेता बलवीर चैहान, खंड विकास समिति संगड़ाह के अध्यक्ष मेला राम शर्मा, सिरमौर के कृषि उत्पाद विपणन समिति के अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा व पुलिस अधीक्षक ओमापति जम्वाल भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Tuesday, 9 November 2021

ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी को किया गया सम्मानित

‘सर्टीफिकेट आफ कमिटमैंट’  प्रमाण पत्र से किया  गया सम्मानित


सम्पादन और पोस्टिंग:कार्तिका सिंह 

8th November 2021 at 10:33 PM

मोहाली: 8 नवंबर 2021: (गुरजीत बिल्ला और आराधना टाईम्ज़ डेस्क)::

दुनिया जल रही है तनाव की आग में। परेशानियों की आग में। लोग विचलित हैं दिन प्रति दिन बढ़ रही उलझनों जंजाल से। एक संकट हल करने की कोशिश करते हैं तो बीसियों नए संकट खड़े हो जाते हैं। ऐसे में ब्लड प्रेशर भी बढ़ रहा है, दिल के दौरे भी बढ़ रहे हैं और शूगर जैसी बीमारियां भी बढ़ रही हैं। ज़िंदगी का सुख चैन उड़ चुका है। किस ने हर लिए मन की शांति को? ब्रह्मकुमारियों के पास हैं इन सभी सवालों के जवाब। केवल सवाल ही नहीं समस्याओं के समाधान भी हैं। उनके द्वारा बताई गई जीवन पड़ती को अपना कर बहुत जल्द कुछ ही दिनों में मिलने लगती है सुख और शांति की झलक। तड़क भड़क और फैशन से बहुत दूर सादगी भरा जीवन जी रही ब्रह्मकुमारियों के पास मन की शांति का भंडार ,उनके चेहरों पर नज़र आती है शांति। दीदी बी के शिवानी को सोशल मीडिया पर फॉलो करने वालों की संख्या हर रोज़ बढ़ रही है।  

राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी इंचार्ज, राजयोग केंद्र मोहाली-रोपड़ क्षेत्रा को वर्ल्ड बुक आफ रिकार्डस, लंदन द्वारा लाकडाउन में करोना महामारी के चलते मानवता के लिए लोक कल्याण में अपना योगदान देने के कार्य के लिए ‘सर्टीफिकेट आफ कमिटमैंट’ से सम्मानित किया गया ।

वर्ल्ड बुक आफ रिकार्डस, यूरोप के अध्यक्ष विलियम जेज़लर के मार्गद}ार्न में दुनिया भर के 70 दे}ाों में करोना मुक्ति के लिए जन जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। व्यक्तियों और संगठनोें को कोरोना से मुक्ति के लिए काम करने के लिए प्रेरित करने  अर्थ ‘सर्टीफिकेट आफ कमिटमैंट’ ;स्विटजरलैंड से सम्मानित किया जा रहा है । 

इस पहल के तहत, वर्ल्ड बुक आफ रिकार्डस, लंदन के राष्ट्रीय सचिव डा. दीपक हरके व पंजाब के भुतपूर्व स्वास्थ्य मंत्राी व वर्तमान विधयक  श्री बलबीर सिंह सिदू ने कल रात्रि यहां ब्रह्माकुमारीज़ सुख शांति भवन फेज़ 7 में आयोजित कार्यक्रम में  राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी को विशेष तौर पर प्रमाण पत्रा से सम्मानित  किया । इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज़ के रोपड़ की संचालिका ब्रह्माकुमारी रमा, खरड़ की संचालिका ब्रह्माकुमारी भावना व नम्रता तथा ब्रह्माकुमारी अमन, ब्रह्माकुमारी रषजीत, ब्रह्माकुमारी मीना, ब्रह्माकुमारी सुमन, ब्रह्माकुमार जसबीर सिंह व विनोद भाई भी मंच पर उपस्थित थे । 

श्री बलबीर सिंह सिदू ने इस अवसर पर  ब्रह्माकुमारीज़ संस्था व विशेष  रूप से प्रेमलता दीदी  जी को बधई दी और कहा कि समाज सेवा के लिए वे हमारे प्रेरणा के स्त्रोत हैं । इनके प्रयासों, जनता व  भारत  तथा पंजाब सरकार के सहयोग से पंजाब के लोगों की जो जाने बचाई जा सकी, उसकी भारत व केनेडा के प्रधनमंत्राी तक ने सराहना की है ।

वर्ल्ड बुक आफ रिकार्डस, लंदन के राष्ट्रीय सचिव डा. दीपक हरके ने इस अवसर पर कहा कि ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी ने करोना महामारी के दौरान वि}व स्वास्थ्य संगठन, भारत सरकार व राज सरकार के दि}ाा निर्दे}ाों,  सही खानपान व दवाइयों  के साथ साथ राजयोग द्वारा इम्यूनिटी बढ़ाने की युक्तियों से  इन्होने हजारों ही लोगों की जान बचाई जिस कारण उन्हें इस सर्टीफिकेट आफ कमिटमैंट से सम्मानित किया गया है ।

राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी ने अहमदनगर;महाराष्ट्रद्ध से खास तौर पर पधरे डा. दीपक हरके व स. बलबाीर सिंह सिदू का ध्न्यवाद किया तथा इस करोना काल में की गई समाज सेवा का श्रेय अपनी मोहाली टीम;ब्रह्माकुमारीज़ व ब्रह्माकुमारोंद्ध को दिया  तथा सभी लोगों को निशुल्क राजयोग सीखने व अभ्यास के लिए प्रेरित किया। 

आप भी भेज सकते हैं अपने नज़दीक में हुए आयोजनों की ऐसी खबरें/रिपोर्ट, तस्वीरें, वीडियो और विशेष कवरेज का निवेदन जिसके लिए ईमेल है medialink32@gmail.com इसके साथ ही WhatsApp नंबर है:  +91 9915322407 

Sunday, 7 November 2021

भगवान श्री परशुराम मंदिर में लगा फ्री आर्थो कैंप

 7th November 2021 at 6:56 PM WhatsApp

  मेडिकल कैंप में हुई 100 लोगों की हुई जांच  

कैंप में शिरकत करने पर मेयर अमरजीत सिंह जीती सिद्वू का स्वागत करते व
सिरोपा भेंट करके उन्हें सम्मानित करते मंदिर कमेटी के पदाधिकारी 


मेयर अमरजीत सिंह जीती सिद्वू ने किया कैंप का उदघाटन

मंदिर प्रबंधकों के कार्याे की सराहना की

इलाज करवाने वाले मरीज बोले आगे भी लगना चाहिए ऐसा फ्री कैंप

मोहाली: 7 नवंबर 2021:(गुरजीत सिंह बिल्ला//आराधना टाईम्ज़)::

फेस-9 के औद्योगिक क्षेत्र में स्थित भगवान श्री परशुराम मंदिर एवं धर्मशाला में गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिए रीड़ की हड्डी और सरवाईकल जैसी बीमारियों को दूर करने के लिए एक फ्री अर्थो कैंप का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन मोहाली के मेयर अमरजीत सिंह जीती सिद्वू ने रिबन काट कर किया। 

इस कैंप के दौरान श्री ब्रहामण सभा और मोयाल सभा मोहाली के प्रधान वी.के वैद, सरप्रस्त रोमेश दत्त, सरप्रस्त शिव शरन कुमार,उपाध्यक्ष जसविंदर शर्मा , सीनियर उपाध्यक्ष नवलकिशोर शर्मा, गोपाल कृष्ण,चेयरमैन राजीव दत्त, रिशी राज, के के छिब्बर, मनमोहन दादा, बलदेव राज वशिष्ट, यशपाल अगिनहोत्री, श्री ब्रहामण सभा मोहाली महिला संकीर्तन मंडल अध्यक्ष मैडम हेमा गैरोला, कमलेश राज, वरिंदर शर्मा, प्रवीन शर्मा, अरूण वैद, कृष्ण शर्मा,हनीत,टोनी, ओम प्रकाश, गुरमेल सिंह सियाण, बॉबी शंकर, राजेश कुमार अपने परिवार सहित और मंदिर के पुजारी अमित मिश्रा,अशोक कुमार भाट,ऊमेश द्विवेदी भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।

कार्यक्रम में पहुंचे मेयर अमरजीत सिंह जीती सिद्वू ने श्री ब्रहामण सभा मोहाली और भगवान श्री परशुराम मंदिर कमेटी के पदाधिकारियों के कार्यो की सराहना की और मंदिर के विकास कार्यो में पहले की तरह आगे भी अनुदान देने की बात कही। इस दौरान उनके साथ विक्टर भी उपस्थित थे। 

मंदिर प्रबंधकों की ओर से दोनों अतिथियों को गुलदस्ता भेंट करके स्वागत किया गया और उनको सिरोपा भेंट करके सम्मानित किया गया। इस दौरान श्री ब्रहामण सभा के प्रधान वी.के वैद ने मंदिर के कार्यो के बारें में मुख्यातिथि को विस्तारपूर्वक अवगत करवाया और श्री सिद्वू परिवार का मंदिर के विकास कार्यो में अहम योगदान बताया। 

इस दौरान पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने बताया कि कैंप में लगभग 1०० के करीब लोगों का इलाज किया गया और यह कैंप सुबह 1० बजे से लेकर शाम 5 बजे तक चलता रहा। वहीं कैंप में इलाज करवाने आए मरीजों का कहना था कि इस तरह के कैंप अधिक से अधिक लगाए जाने चाहिए और वह मंदिर कमेटी प्रबंधकों से अपील करते हैं कि भविष्य में भी इस तरह का कैंप लगाया जाए। इस दौरान कैंप को सफल बनाने में मैडम हेमा गैरोला एवम उनकी महिला मंडल जिसमें पुष्पा शर्मा,सुधा,गीतांश, कुसुमा,सुशीला, वेद बाला, लीला शर्मा, गीता शर्मा, पूनम शर्मा,मुस्कान वैद ,साधना वैद,मालती देवी,ममता शर्मा,लता,खुश्बू सहित अन्य महिलाओं ने कैंप को सफल बनाने में अपना अहम योगदान दिया।

Saturday, 6 November 2021

भगवान परशुराम मंदिर में गोवर्धन पूजा पूरी आस्था से हुई

विश्वकर्मा दिवस भी पूरी श्रद्वा-भावना एवं उत्साहपूर्वक मनाया गया


मोहाली
: 6 नवंबर 2021: (गुरजीत सिंह बिल्ला//आराधना टाईम्ज़)::

मोहाली के फेस-9 औद्योगिक क्षेत्र में उपस्थित  श्री भगवान परशुराम मंदिर एवम धर्मशाला में मंदिर के प्रबंधकों और श्रद्वालुओं की ओर से शुक्रवार को गोवर्धन पूजा और विश्वकर्मा दिवस बड़ी श्रद्वा-भावना एवम उत्साहपूवर्क मनाया गया। इस दौरान मंदिर परिसर में एक विशाल धार्मिक कार्यक्र म का आयोजन किया गया जिसमें भारी संख्या में श्रद्वालुओं और मंदिर कमेटी के पदाधिकारियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और पूजा-अर्चना भी की। कार्यक्रम के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए मंदिर के प्रमुख्य सेवादार और श्री ब्रहामण सभा मोहाली के प्रधान रिटायर्ड एसपी वी.के. वैद, सरप्रस्त रोमेश दत्त, सरप्रस्त शिव शरन कुमार,उपाध्यक्ष जसविंदर सिंह शर्मा ने बताया कि मंदिर में यह पहली बार हुआ है कि एक कार्यक्रम दो साथ करवाए गए। उन्होंने बताया कि मंदिर में आज गोवर्धन पूजा भी की गई और बाद में विश्वकर्मा दिवस भी मनाया गया। उन्होंने बताया कि जब से मंदिर में विश्वकर्मा जी की मूर्ति स्थापित की गई तब से आज यह बाबा विश्वकर्मा का पहला कार्यक्रम था जिसको लेकर श्रद्वालुओं और मंदिर कमेटी पदाधिकारियों में काफी उत्साह था। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम में सुबह पहले पूजा-अर्चना की गई उसके बाद विशाल हवन यज्ञ तैयार करवाया गया जिसमें सभी श्रद्वालुओं ने मंदिर के मुख्य पुजारियों के मंत्रोच्चारण के साथ हवन भी किया। वी.के वैद ने बताया कि इसके बाद सभी श्रद्वालुओं को चाय पकौड़े का लंगर वितरित किया गया और उसके बाद कढ़ी-चावल का अटूट लंगर लगाया गया। कार्यक्रम में इस दौरान गोपाल कृष्ण,चेयरमैन राजीव दत्त, केके छिब्बर, पार्षद जसवीर सिंह मणकू,पार्षद प्रमोद मित्रा, मनमोहन दादा, बलदेव राज वशिष्ट, यशपाल अगिनहोत्री, श्री ब्रहामण सभा मोहाली महिला संकीर्तन मंडल अध्यक्ष मैडम हेमा गैरोला, कमलेश राज, वरिंदर शर्मा, प्रवीन शर्मा, अरूण वैद, कृष्ण शर्मा,गुरमीत सिंह चेयरमैन बीसी सेल, विनोद वैद,कृष्ण कुमार कंबाला, कृष्ण कुमार सैक्टर-66, नवल किशोर शर्मा,हनीत,टोनी, ओम प्रकाश, गुरमीत सिंह सियाण, बॉबी शंकर, राजेश कुमार अपने परिवार सहित  और मंदिर के पुजारी अमित मिश्रा,अशोक कुमार भाट,ऊमेश द्विवेदी भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।

महिला मंडल के  कीर्तन से मंदिर हुआ भक्तिभोर

मोहाली: उक्त कार्यक्रम के दौरान मंहिला मंडल संर्कीतन मडली की ओर से मंडल अध्यक्षता मैडम हेमा गौरोला की देख-रेख में कीर्तन कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें पूरा मंदिर भक्तिभोर हो गया और संगतों को गुणगान करके निहाल किया गया है। इस दौरान मैडम हेमा गैरोला ने बताया कि मंदिर में संकीर्तन के दौरान पुष्पा शर्मा,सुधा,गीतांश, कुसुमा,सुशीला, वेद बाला, लीला शर्मा, गीता शर्मा, पूनम शर्मा,मुस्कान वैद ,साधना वैद,मालती देवी,ममता शर्मा,लता,खुश्बू सहित अन्य महिला श्रद्वालुओं ने शिरकत किया।

7 नवंबर को लगेगा मुफ्त मंदिर में कैंप

मोहाली। मंदिर प्रबंधकों ने बताया कि 7 नवंबर यानि कल रविवार को श्री भगवान परशुराम मंदिर में रीढ़ की हड्डी और सरवाईकल के माहिर डाक्टर की ओर से मुफ्त कैंप का आयोजन किया जा रहा है जो कि सुबह 1० बजे से लेकर शाम 4 बजे तक चलेगा। उन्होंने बताया कि कैंप का उद्घाटन पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्वू करेंगें।  


फोटो कैप्शन: मंदिर में आयोजित गौवर्धन पूजा, विश्वकर्मा पूजा में शिरकत करते श्रद्वालु एवम मंदिर कमेटी के पदाधिकारी ।

Saturday, 9 October 2021

पांचवां विशाल भगवती जागरण आज

साडी आवाज नवी सोच ग्रुप की ओर से  कराया गया विशेष आयोजन        

लुधियाना: 9 अक्टूबर 2021: (कार्तिका सिंह//आराधना टाईम्ज़)::

मौसम में तब्दीली की दस्तक होते ही सुबह और शाम के वक्त सर्दियों की ठंडक भी महसूस होनी शुरू हो गई। गर्मियों के झुलसा देने वाली धुप से राहत बहुत अच्छी लग रही है। साथ ही त्योहारों का मौसम भी आ गया है। जागरण के आयोजन भी ज़ोर पकड़ने लगे हैं। मां की ज्योति को लोग बहुत ही आस्था से ले आकर आते हैं। बहुत ही श्रद्धा से नतमस्तक होते हैं। अपने घरों में फेरी डलवाते हैं। फिर स्थापना करते हैं। जागरण के वक्त सभी लोग पूजन और कीर्तन करते हैं। आज ऐसा ही एक यादगारी आयोजन होने जा रहा है समराला चौंक क्षेत्र के नज़दीक। 

साडी आवाज नवी सोच ग्रुप की ओर से पांचवां विशाल भगवती जागरण महाराजा रणजीत सिंह पार्क गली नंबर-5 शिंगार सिनेमा रोड पर बड़ी धूमधाम से करवाया जा रहा है। जागरण के उपलक्ष में आज महामाई की जोत ज्वाला जी से लाई गई। महामाई की ज्योत को ढोल नगाढों और बैंड बाजों के साथ महामाई के जागरण स्थल पर लाया गया। इस ज्योति का गली मोहल्ला निवासियों की ओर से पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। आज रात्रि जागरण में टी सीरीज गायक सुनील हीर एंड पार्टी और मीनू चावला एंड पार्टी द्वारा महामाई का गुणगान किया जाएगा। इस अवसर पर ग्रुप के मनमोहन कुमार , रोबिन सिंगला , गौरव गुप्ता , मन्नू , मोहित कुमार , विक्की आहूजा , संजय सूद आदि उपस्थित थे। इलाके के लोगों में इसे लेकर बहुत ही उत्साह है। 

आप भी आमंत्रित हैं इस जागरण में। आएं और जागरण में नतमस्तक हो कर मां का आशीर्वाद प्राप्त करें। मां की कृपा और मां का प्रसाद ज़िंदगी भी बदल देते हैं और किस्मत की लकीरें भी। इसलिए आना न भूलें। स्वयं भी आएं। परिवार को भी लाएं। पड़ोस को भी बताएं। मिलजुल कर प्रेम के साथ दिल से आवाज़ देते हुए जय माता दी गाएं और गम को और दूर भगाएं। बहुत कुछ मिलेगा मां के दरबार से। बस आ कर ज़रा सिर तो झुका कर देखें। एक जैकारा तो लगा कर देखें। मां खुशियों से झोली भर देगी। 

Tuesday, 5 October 2021

उन्होंने मेरे जीवन को कीर्तन से भर दिया--चरणजीत सिंह हीरा

Sunday 3rd October 2021 10:17 PM

स्मृतियों के झरोखों से झांकते हुए जोधपुरी जी के अंर्तमन की झलक

सोशल मीडिया: 5 अक्टूबर 2021 (आराधना टाईम्ज़ ब्यूरो)::


जिन दिनों कॉलर टयून, हैलो टयून, रिंग टोन जैसे रिवाज नए नए चले थे उन दिनों गीतों का बोलबाला था। फिर धीरे धीरे भजन भी आए। गुरुबाणी शब्दों सेट हुआ था भाई सुरिंदर सिंह जोधपुरी जी के शब्दों से। सबसे ज़्यादा लोकप्रिय हुआ था उनका गया शब्द "हरि जीउ निमाणिआ तू माणु---" जब कठिन वक्त अत है। मुसीबतें आती हैं तब सबसे पहले वही लोग छोड़ जाते हैं जिन पर सबसे से ज़्यादा गहरा विश्वास और प्रेम होता है। दुनिया जब नकार देती है तन मन की पीड़ा और बढ़ जाती है---उस समय यह शब्द भी बहुत हौंसला देता है और भगवन के साथ जोड़ता है। गुरु के कीर्तन को घर घर पहुँचाने वाले भाई सुरिंदर सिंह जोधपुरी जी ने अपने परिवार सहित खुद भी बहुत सी मुसीबतों का सामना किया। अफ़सोस उन की कुर्बानियों की कभी चर्चा नहीं हुई। वह स्वयं भी भगवन के रंग में मगन रहने वाले थे। बहुत कुछ था जो उनके साथ चला गया लेकिन कीर्तन का अनमोल खज़ाना, अपने गायन की अनमोल निधि वह चरणजीत सिंह हीरा जी को दे गए। उन्होंने एक आलेख फेसबुक पर भी पोस्ट किया तीन अक्टूबर 2021 की रात्रि को 10:17 पर। यह आलेख जोधपुरी जी के उस अंतर्मन की थोड़ी सी झलक देता है जिसकी चमक उनके चेहरे पर सदैव रही। स्वार्थों भरी दुनिया में उनकी मासुमियत भी बरकरार रही। एक दिव्यता उनकी शख्सियत में थी। पढ़िए आप स्वयं ही पढ़िए चरणजीत सिंह हीरा जी की वह पोस्ट। जिनमें कीर्तन की बात के साथ साथ इस रूहानी मिलन की बातें भी हैं। जो बताती हैं कि आजकल भी ऐसे मिलन होते हैं। --रेक्टर कथूरिया

इस वीडियो में है अंतिम संस्कार के कार्यक्रम की कुछ यादें, कुछ तस्वीरें, कुछ वीडियो क्लिप। यही है आजकल यादों को संभालने का सिलसिला। 

अगर किसी ने जोधपुरी जी का कीर्तन सुनने के रस लिया हैं। तो मैंने उस कीर्तन करने का स्वाद चखा है।
मैंने उनका ज़हन पिया है। उनकी चेतना की गहराइयों को जाना है जिससे कीर्तन उत्पन्न होता है। वो गहराई जहां भीतर का अनंत आकाश शुरू होता है।
इसलिए मुझे किसी और का कीर्तन बहुत पसंद नहीं है।
उन्होंने मेरे जीवन को कीर्तन से भर दिया। कीर्तन-मय कर दिया।
चरणजीत सिंह हीरा 
जो भी राजनीति या सांसारिक कारण से उनके साथ रहे हैं। भले वह बाहर बाहर ही रहे पाए लेकिन मुझे खुशी है कि मैं उनके साथ उनके अंदर की इतनी गहराई से जुड़ा।
1995-96 के आसपास जब हम उन्हें फ़ोन करते थे। जब कभी भी वह दिल्ली में मॉडल टाउन के पास किसी एक भारी शरीर वाले गुरसिख के घर पर ठहरते थे।
फोन पर वे मुझे मज़ाक में चिढ़ाते थे, "की हाल है Mr. हीरा आंनद गुणी गहिरा ?" शायद मजाक में ही सही मुझे वह कीर्तन का वरदान दे गए।
उन दिनों में ही मैंने कीर्तन करना थोड़ा थोड़ा इज़ात कर लिया था। रकाब गंज गुरुद्वारा में मेरे पिता जी ने उनसे कहा कि यह भी कीर्तन भी लेता है। ओर आपके शब्द गाता है।
और उन्होंने मेरे कंधे पर हाथ रखा और कहा, "बेटा, तुम्हें बहुत मेहनत करनी है, बहुत मेहनत करनी है।"
और एक बार रेलवे कॉलोनी रानी बाग में उनका कीर्तन हुआ। और कीर्तन के बाद, उनसे बात करते हुए, सहज में अपने हाथ को बातों बातों में ऊपर कर रहे थे और मैं अपना हाथ नीचे कर रहा था । मेरे हाथ में जेल पेन था । जो उनके हाथ में ज़ोर से लगा।
एक बार जब हम जगाद्री कीर्तन दरबार में मिले, तो मैं उनके पैर छूने लगा तो उन्होंने मेरे कंधे पकड़ लिए और कहा, "चलो, अच्छा है, कोई तो मुझे गाने वाला हुआ।"
उनके साथ मेरा रिश्ता इतना गहरा है कि या तो वे जानते थे या मैं। इस कीर्तन दात के लिए मुझे चुनने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। अंदर ही अंदर सारा हस्तांतरण कर दिया।
मुझे इतना अपना बनाने के लिए धन्यवाद। इतना अपना जो दूसरों को कभी नहीं पता नही चल पाएगा।
बिछड़ी रूह को कोट कोट नमन एवं श्रद्धांजलि।
चरणजीत सिंह "हीरा"


Tuesday, 31 August 2021

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाया गया श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव 2021

Tuesday: 31st August 2021 at 05:01 PM

 दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा–‘संभवामि युगे युगे' 

लुधियाना: 31 अगस्त 2021: (आराधना टाईम्ज़ ब्यूरो)::

कोविड वैश्विक महामारी के इस संघर्ष पूर्ण दौर मे, जहां हर ओर लोग आर्थिक तंगी, स्वास्थ्य समस्याओं, मानसिक तनाव अथवा पारिवारिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं , वहां आध्यतामिकता ही मानवता को संतोष व धीरज प्रदान करने का एक मात्र उपाय है। अध्यात्म के द्वारा ही एक  व्यक्ति किसी भी प्रकार की प्रतिकूल परिस्थितियों से सहजता से बाहर निकल सकता है। यह एक ऐसा सार्वभौमिक सत्य है जिसे समय-समय पर हमारे संतों महापुरुषों ने मानव जाती को याद कराया है। आज भी , दिव्य गुरु श्री आशुतोष महाराज जी , दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान [DJJS] के संस्थापक एवं संचालक , लोगों को न केवल अध्यात्म के महत्व से परिचित करवा रहे हैं अपितु  इसके सार को मानव के आंतरिक जगत में ‘ब्रह्मज्ञान ‘- आत्म साक्षात्कार का सनातन विज्ञान के द्वारा प्रयोगात्मक ढंग से प्रकट भी कर रहे हैं ।

विश्व भर के असंख्य लोगों की आध्यात्मिक तृप्ति हेतु, डी.जे.जे.एस. ने श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2021 के शुभ अवसर पर ‘संभावमी युगे युगे’ विषय पर आधारित एक विशेष सामाजिक-सांस्कृतिक-आध्यात्मिक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया। उक्त विषय श्रीमद् भगवत गीता मे बताए गए भगवान श्री कृष्ण के सार्वभौमिक उद्घोष- ‘पवित्र आत्माओं के कल्याण व अधर्मियों के विनाश हेतु मैं धरती पर अवतार लूँगा’ पर आधारित था। इस भव्य ऑनलाइन कार्यक्रम का प्रसारण डी.जे.जे.एस. यूट्यूब चैनल के माध्यम से 29 और 30 अगस्त को क्रमशः दो एपिसोडों - भाग 1 और भाग 2 मे किया गया एवं सम्पूर्ण कार्यक्रम का पुनः प्रसारण जन्माष्टमी की रात्री यानि 30 अगस्त, 2021 को रात 9 बजे से मध्यरात्रि 12 [IST] तक किया गया। करोड़ों लोगों ने यूट्यूब के माध्यम से घर बैठे ही इस दिव्य कार्यक्रम का लाभ उठाया। साथ ही इन दो दिनों मे दिन मे कई कई बार सोशल मीडिया ऐप ट्विटर पर #DJJSJamashtami व #SambhavamiYugeYuge  हैशटेग ट्रेंडिंग में रहे। संस्थान के मन्त्रमुग्ध कर देने वाले संगीत व नृत्यनाटिकाओं को इंस्टाग्राम रील्स मे भी खूब सराहा गया।           

इस आयोजन में न केवल श्री कृष्ण को लेकर समाज में फैली मनगढ़ंत धारणाओं और भ्रांतियों को दूर किया गया बल्कि यह भी समझाया गया कि जन्माष्टमी का पर्व केवल दही-हांडी, उपवास या सजावटी झांकी तक ही सीमित नहीं है। बल्कि यह भगवान कृष्ण की दिव्य शिक्षाओं को आत्मसात करने और उनके दिखाए आध्यात्मिक मार्ग पर चलने का संकल्प लेने का पर्व है। क्यों श्री कृष्ण का अवतार लेना एक उत्सव है? श्री कृष्ण की शाश्वत चेतना आज भी आपके जीवन को किस प्रकार दिव्य बना सकती हैं ? क्या आप केवल श्रीकृष्ण में विश्वास करते हैं या उनकी आज्ञा भी मानते हैं ? जन्माष्टमी के मूल पहलुओं को उजागर करते हुए इन सभी प्रश्नों के उत्तरों को विभिन्न माध्यमों से दिया गया। कार्यक्रम में जगतगुरु भगवान श्री कृष्ण को भक्तिमय वंदन अर्पित किया गया। श्रीमद्भगवत गीता में निहित आध्यात्मिक रत्नों को प्रस्तुत किया गया। श्री कृष्ण की जीवन गाथाओं को ज्ञानवर्धक नृत्य नाटिकाओं के माध्यम से रखा गया एवं विद्वान प्रचारकों के द्वारा श्रीकृष्ण की लीलाओं का विश्लेषण किया गया।

भगवान श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को प्रदत्त ‘गीता-ज्ञान’; भगवान विष्णु के दो द्वार पाल ‘जय-विजय’ की गाथा जिन्हें अहंकार के वशीभूत धर्म पथ को त्यागने के कारण शाप मिला; मीराबाई जी की भक्ति को दर्शाती ‘प्यारे दर्शन दीजो’ आदि रोमांचक नाट्य कार्यशालाएं; ‘केशव माधव’ व ‘गुरु वंदना’ पर नृत्य नाटिकाएँ अथवा श्री कृष्ण की मंगल आरती इस भव्य कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण रहे। इन सभी प्रस्तुतियों का सबसे  विशेष पक्ष इनमे निहित सेवा भावना थी। गौरतलब है कि इस कार्यक्रम मे भाग लेने वाले सभी कलाकारों में कोई भी इस कला मे पारंगत, नाम, प्रसिद्धि व पैसे के लिए काम करने वाला पेड-प्रॉफेश्नल नहीं था अपितु ये सभी युवा दिव्य गुरु श्री आशुतोष महाराज जी के निस्वार्थ, समर्पित, जागृत ब्रह्मज्ञानी शिष्य थे; जिन्होंने समाज कल्याण की भावना से प्रेरित होकर इस कार्यक्रम मे अपना सर्वस्व लगाया। प्रत्येक प्रस्तुति दिव्य उत्साह व ऊर्जा से परिपूर्ण रही क्योंकि प्रस्तुति के पहले सभी कलाकार ब्रह्मज्ञान आधारित ध्यान साधना करते। इस कार्यक्रम में मंच पर एक उच्च दर्जे का अनुशासन देखा गया, युगल प्रस्तुतियों में जो युगल [couples] इन नाट्य प्रस्तुतियों में देखे गए वो वास्तविक जीवन में भी  विवाहित हैं।

यह कार्यक्रम जिसे विश्व भर से असंख्य दर्शकों ने घर बैठे ही देखा, इसे व्यापक मीडिया कवरेज और सभी से सराहना प्राप्त हुई।

यद्यपि संस्थान तीन दशकों से अधिक समय से बड़े पैमाने पर जन्माष्टमी कार्यक्रम आयोजित कर रहा है परंतु यह कार्यक्रम सबसे खास और अनूठा था क्यूँकि डी.जे.जे.एस. की 350 से अधिक विश्वव्यापी शाखाओं से दिव्य गुरु श्री आशुतोष महाराज जी के सभी आयु वर्ग के हजारों शिष्य, अपने घरों से बाहर आए और स्कूलों, कॉलेजों, विश्व विद्यालयों, मंदिरों, मॉल, पार्कों और अन्य सार्वजनिक स्थानों में, COVID प्रोटोकॉल का पालन करते हुए, इस कार्यक्रम का प्रचार-प्रसार किया गया। इस दिव्य कार्यक्रम  ने न केवल 'वसुदेव कुटुम्बकम’ की भावना को जागृत किया बल्कि इसे वास्तविक रूप मे साकार भी कर दिखाया । सुप्रसिद्ध कॉफी शॉप चेंन कैफे कॉफ़ी डे [सी.सी.डी] के देश भर मे लगभग 75 सेंटर्स मे बढ़ चढ़ कर कार्यक्रम का डिजिटल विज्ञापनों द्वारा प्रचार हुआ। इतना ही नहीं, दुनिया भर के स्थानीय मीडिया ने भी अपने संबंधित समाचार चैनलों और समाचार पत्रों के माध्यम से इस कार्यक्रम का प्रचार किया। इसके साथ साथ, अहमदाबाद के सुप्रषिद्ध कर्णावती क्लब व राजपथ क्लब और साथ ही बिहार, उत्तरप्रदेश और उड़ीसा के ग्रामीण क्षेत्रों और दूर दराज़ के इलाकों में कार्यक्रम की सामुदायिक डिजिटल स्क्रीनिंग भी की गयी।

बड़ी संख्या में विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों पर प्रभावशाली और दिग्गज व्यक्तित्व जैसे कि बॉलीवुड अभिनेता और प्रसिद्ध हस्ति - श्री अखिलेंद्र मिश्र जिन्हें क्रूर सिंह के रूप में उनकी भूमिका के लिए जाना जाता है; नेशनल सिंगिंग रियलिटी शो 'वॉयस ऑफ इंडिया किड्स' विजेता - सुश्री निष्ठा शर्मा; श्री संजय तलवार जी (एम एल ए लुधियाना), श्री श्याम सुंदर मल्होत्रा जी (सीनियर डिप्टी मेयर लुधियाना), श्री कमल चेटली लुधियाना (नेशनल वाईस प्रेजिडेंट शिरोमणि अकाली दल), श्री प्रवीण डंग जी (प्रेजिडेंट हिन्दू न्याय पीठ पंजाब), श्री रजनीश धीमान जी (एग्जीक्यूटिव मेंबर बीजेपी पंजाब), श्री मदन लाल चोपड़ा जी (चेयरमैन सनातन धर्म महोत्सव कमेटी लुधियाना), श्री दिनेश मरवाहा जी (प्रेजिडेंट श्री राम लीला कमेटी दरेसी ग्राउंड लुधियाना); प्रसिद्ध लेखक और पत्रकार- श्री संदीप देव; प्रसिद्ध हास्य कलाकार श्री दीपक राजा और श्री मणि लहरी; भारतीय टेलीविजन अभिनेत्री सुश्री स्मृति कश्यप; डब्लू.डब्लू.ई. चैंपियन द ग्रेट खली; मंत्री पंजाब श्री बलबीर सिंह सिद्धू; कई अन्य लोगों ने डी.जे.जे.एस. जन्माष्टमी को अपने सोशल मीडिया हैंडल के साथ-साथ वीडियो संदेश द्वारा बढ़ावा दिया और आयोजन को एक शानदार सफलता दिलाई।

डी.जे.जे.एस. एक अलाभकारी सामाजिक-आध्यात्मिक संगठन है जो विश्व स्तर पर नौ-आयामी सामाजिक सुधार और कल्याण कार्यक्रमों – लिंग समानता, शिक्षा, सामुदायिक स्वास्थ्य, नशीली दवाओं के दुरुपयोग उन्मूलन, पर्यावरण संरक्षण, भारतीय गाय नस्ल सुधार और संरक्षण, आपदा प्रबंधन, विकलांगों और कैदियों के सशक्तिकरण के साथ-साथ कॉर्पोरेट क्षेत्र और युवाओं के सशक्तिकरण, के माध्यम से सार्वभौमिक भाईचारे और शांति की स्थापना के लिए काम कर रहा है।